लार्ड कर्जन की दमनकारी नीति क्या थी

लार्ड कर्जन की दमनकारी नीतियां

Lard Curzon's oppressive policy
 लार्ड कर्जन साम्राज्यवादी नीति में विश्वास करते थे। 1898 ई. में वह भारत के वायसराय बनकर आए तथा उन्होंने भारत विरोधी अनेक कार्य किए। लार्ड कर्जन कुशल प्रशासक थे परंतु भारतीयों में घृणा करते थे। उन्होंने समय-समय पर दिए गए अपने भाषणों में भारतीयों के लिए अनेक अपमानजनक शब्दों का प्रयोग किया। जिससे भारतीय अत्यधिक उग्र हो गए।
लार्ड कर्जन की दमनकारी नीतियां

1. कलकत्ता कॉरपोरेशन एक्ट 1899

Calcutta Corporation Act 1899
 लार्ड रिपन द्वारा स्थानीय स्वशासन के क्षेत्र में जो उत्तम कार्य किया गया था उसको लार्ड कर्जन ने समाप्त कर दिया। कलकत्ता कॉरपोरेशन एक्ट 1899 के द्वारा कलकत्ता कॉरपोरेशन के सदस्यों की संख्या 75 से घटाकर 50 कर दी गई। इस अधिनियम का उद्देश्य यह था कि निगम तथा उसकी संपत्तियों में निर्वाचित भारतीय सदस्य अल्पमत में रह जाए और सरकारी सदस्यों का बहुमत हो जाए। जिससे निगम पर सरकार का पूर्ण नियंत्रण स्थापित हो जाए। निगम एंग्लो-इंडियन सभा के रूप में रह गया। इससे भारतीयों में असंतोष फैल गया था।

2. भारतीय विश्वविद्यालय अधिनियम 1904

Indian Universities Act 1904
भारतीय विश्वविद्यालय अधिनियम 1904 का उद्देश्य भारतीय विश्वविद्यालयों पर अधिक सरकारी नियंत्रण स्थापित करना था। इस अधिनियम को 1902 में कलकत्ता विश्वविद्यालय के उपकुलपति थॉमस रैले की अध्यक्षता में आयोग के सुझावों के आधार पर पारित किया गया।
 इस अधिनियम द्वारा विश्वविद्यालयों की सिंडिकेट और सीनेट के सदस्यों की संख्या में कमी कर दी गई और 80% सदस्य सरकार द्वारा मनोनीत रखने का प्रावधान किया गया। और आंतरिक स्वतंत्रता को नष्ट कर दिया गया। इससे शिक्षित भारतीयों में असंतोष फैला।

3. शासकीय गोपनीयता अधिनियम 1903

Official Secrets Act 1903
इसके अनुसार सरकारी गतिविधियों का भेद देना दंडनीय बना दिया गया और समाचार पत्रों की स्वतंत्रता को मर्यादित कर दिया गया। सरकार की आलोचना पर प्रतिबंध लगाया गया तथा प्रेस की स्वतंत्रता नष्ट कर दी गई।

4. केंद्रीकरण की नीति (Centralization policy)

 लार्ड कर्जन ने केंद्रीकरण की नीति अपनाई। वह एकीकृत व केंद्रित शासन में विश्वास करता था। वह पदों पर भारतीयों की नियुक्ति का समर्थक नहीं था। वह शासन कार्य में भारतीयों की भागीदारी के पक्ष में नहीं था।

5. साम्राज्यवादी नीति (Imperial policy)

 लार्ड कर्जन की नीति साम्राज्यवादी थी। उसने पड़ोसी देशों में भी अपने साम्राज्यवादी नीति का विस्तार किया। कर्जन की सीमांत नीति, तिब्बत, फारस की खाड़ी तथा चीन में सैनिक दस्ते भेजने की घटनाओं से भारतीयों में काफी असंतोष फैला और इन कार्यों का काफी विरोध हुआ। सैनिक व्यय अत्यधिक बढ़ा दिया गया जबकि जनता भूखी मर रही थी। इससे भारतीय और अधिक उग्र हो गए।

6. भारतीयों के प्रति अभद्र व्यवहार

Indecent behavior towards Indians
 लार्ड कर्जन का व्यवहार भारतीयों के प्रति अपमानजनक था। वह भारतीयों को शासन करने के योग्य नहीं मानता था। वह भारतीयों को अविकसित जाति मानता था तथा उच्च पदों के लिए भारतीयों को अनुपयुक्त मानता था। इस व्यवहार से भारतीयों में अंग्रेजों के प्रति घृणा उत्पन्न हो गई।

7. बंगाल का विभाजन 1905

Partition of Bengal 1905
बंगाल का विभाजन का मूल उद्देश्य बंगाल में बढ़ती हुई राष्ट्रीय चेतना को कुचलना था। भारतीयों के मन में इससे अंग्रेजो के प्रति और भी घृणा उत्पन्न हुई। अंग्रेजों की यह नीति 'फूट डालो और राज करो' के अनुरूप थी। जबकि अंग्रेजों ने बंगाल के विभाजन का कारण प्रशासनिक सुविधा माना परन्तु इसका कारण राजनैतिक अधिक था। हालांकि कर्जन ने इस विभाजन को केवल प्रशासनिक सीमाओं का पुनर्व्यवस्थापन ही बताया। वस्तुतः यह विभाजन राष्ट्रीय एकता के लिए घातक था।
प्रशासनिक दृष्टि से भले ही बंग बंग को न्याय संगत बताया गया हो लेकिन बंगाल का विभाजन कर्जन की सबसे बड़ी भूल थी। इससे भारतीय ब्रिटिश संबंधों में कटुता आ गई। हिंदुओं और मुसलमानों में वैमनस्य बढ़ा। इससे राष्ट्रीय आंदोलन को नई स्फूर्ति मिली। मजबूर होकर ब्रिटिश सरकार को 1911 में बंगाल विभाजन को रद्द करना पड़ा।
निष्कर्ष (conclusion)
लार्ड कर्जन ने भारत के आधुनिकीकरण में विशेष भूमिका निभाई परंतु आज वे अपने कार्यों के लिए नहीं अपितु अपने विरोध में किए गए कार्यों के लिए स्मरण किया जाते हैं।
 बुरे शासक परोक्ष रूप से ईश्वर का वरदान होते हैं। कर्जन की साम्राज्यवादी नीतियों के विरोध में जो प्रतिक्रिया हुई उसके फलस्वरूप भारत में राजनीतिक जागृति आई। उसकी कठोरता से भारत में राष्ट्रवाद की अधिक सशक्त भावना उपजी। वास्तव में न चाहते हुए भी वह भारत का हितकारी सिद्ध हुआ।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां