52nd इंडियन इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल (IFFI) 2021

• 52 वां भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI) 2021

52nd इंडियन इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल (IFFI)  गोवा में 20 नवंबर से 28 नवंबर 2021 के दौरान आयोजित किया जा रहा है।

International Film Festival of India (IFFI) को एशिया के सबसे पुराने और भारत के सबसे बड़े अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोहों में से एक माना जाता है। जनवरी 2021 में आयोजित IFFI के 51nd इंडियन इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल की शानदार सफलता को देखते हुए IFFI का 52वां संस्करण एक हाइब्रिड प्रारूप (लोग इस कार्यक्रम को स्वयं उपस्थित रहकर और ऑनलाइन भी देख सकेंगे) में आयोजित किया जा रहा है। 52 वें फिल्म महोत्सव के आयोजन में भी महोत्सव सम्बन्धी गतिविधियों में वर्चुअल माध्यम से शामिल होने का अवसर दिया गया है। कई फिल्मों को ऑनलाइन भी दिखाया जायेगा।

इस महोत्सव का आयोजन भारत सरकार के सूचना और प्रसारण मंत्रालय के फिल्म महोत्सव निदेशालय (DFF) द्वारा गोवा की राज्य सरकार और भारतीय फिल्म उद्योग के सहयोग से किया जा रहा है।

भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव को इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ फिल्म प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन (FIAPF) से मान्यता प्राप्त है। हर साल फिल्म महोत्सव के दौरान चलचित्र संबंधी कुछ बेहतरीन कार्यों को सराहा जाता है और भारत एवं दुनियाभर की सर्वश्रेष्ठ फिल्में दिखाई जाती हैं।

भारतीय सिनेमा के दिग्‍गज श्री सत्यजीत रे की जन्मशताब्दी के अवसर पर इस बार सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय का फिल्म महोत्‍सव निदेशालय IFFI में एक विशेष पूर्वावलोकन के माध्यम से उन्‍हें श्रद्धांजलि अर्पित करेगा।

इसके अलावा, इस महान शख्सियत की विरासत को सराहते हुए ‘सिनेमा में उत्कृष्टता के लिए सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड’ को इसी वर्ष से प्रदान करना शुरू किया गया है, जिसे हर साल IFFI में प्रदान किया जाएगा।

• 52वें IFFI, 2021 के लिए भारतीय पैनोरमा का चयन

👉 भारतीय फीचर फिल्म सुश्री एमी बरुआ द्वारा निर्देशित फिल्म खंड का उद्घाटन ‘सेमखोर’ (दिमासा) से हुआ।

👉 राजीव प्रकाश द्वारा निर्देशित ‘वेद... द विजनरी’ (अंग्रेजी) से भारतीय गैर-फीचर फिल्म खंड का उद्घाटन हुआ।

👉 IFFI के दौरान 24 फीचर फिल्म और 20 गैर-फीचर फिल्में दिखाई जाएंगी।

भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI) ने गोवा में अपने 52वें संस्करण के दौरान भारतीय पैनोरमा खंड में प्रदर्शित की जाने वाली फिल्मों का चयन कर लिया है।

भारतीय पैनोरमा का प्राथमिक उद्देश्य विभिन्न श्रेणियों के तहत इन फिल्मों की गैर-लाभकारी स्क्रीनिंग के जरिए फिल्म कला को प्रोत्साहन देने के लिए सिनेमाई, विषयगत और सौंदर्य उत्कृष्टता की फीचर और गैर-फीचर फिल्मों का चयन करना है। अपनी स्थापना के बाद से, भारतीय पैनोरमा साल की सर्वश्रेष्ठ भारतीय फिल्मों के प्रदर्शन के लिए पूरी तरह से समर्पित रहा है।

फिल्मों का चयन करने वाली जूरी में भारतीय सिनेमा जगत के प्रख्यात फिल्मकार और फिल्मी हस्तियां शामिल थीं। 13 सदस्यीय फीचर फिल्म जूरी की अध्यक्षता प्रशंसित फिल्म निर्माता और अभिनेता, श्री एस वी राजेंद्र सिंह बाबू ने की थी।

• इन फीचर फिल्मों का हुआ चयन

भारतीय पैनोरमा 2021 में चुनी गई 24 फीचर फिल्मों की सूची इस प्रकार है :

क्र.सं. फिल्म      भाषा             निर्देशक

1. कल्कोकखो     बंगाली     राजदीप पॉल और शर्मिष्ठा मैती

2. नितनतोई सहज सरल  बंगाली   सत्रवित पॉल

3. अभिजान    बंगाली     परमब्रत चट्टोपाध्याय

4. मणिकबाबर मेघ     बंगाली    अभिनंदन बनर्जी

5. सिजौ      बोडो      विशाल पी चालिहा

6. सेमखोर       दिमासा       एमी बरुआ

7. ट्वेंटी फर्स्ट टिफिन      गुजराती     विजयगिरी बावा

8. ऐट डाउन तूफान मेल       हिंदी      आकृति सिंह

9. अल्फा बीटा गामा     हिंदी        शंकर श्रीकुमार

10. डोलू        कन्नड़           सागर पुराणिक

11. तलेदंदा      कन्नड़        प्रवीण कृपाकर

12. एक्ट-1978     कन्नड़      मंजुनाथ एस. (मंसूर)

13. नीली हक्की     कन्नड़        गणेश हेगड़े

14. निराय थथकलुल्ला मारम     मलयालम    जयराज

15. सनी   मलयालम           रंजीत शंकर

16. मी वसंतराव     मराठी      निपुण अविनाश धर्माधिकारी

17. बिटरस्वीट       मराठी      अनंत नारायण महादेवन

18. गोदावरी        मराठी           निखिल महाजन

19. फ्यूनरल        मराठी            विवेक राजेंद्र दुबे

20. निवास         मराठी            मेहुल अगजा

21. बूमबा राइड    मिशिंग          बिस्वजीत बोरा

22. भगवदज्जुकम      संस्कृत       यदु विजयकृष्णन

23. कोझंगाल            तामिल      विनोदराज पी एस

24. नाट्यम          तेलुगू             रेवंत कुमार कोरुकोंडा

• इन गैर-फीचर फिल्मों का हुआ चयन

7 सदस्यीय गैर-फीचर जूरी का नेतृत्व प्रशंसित वृत्तचित्र फिल्म निर्माता श्री एस नल्लामुथु ने किया था।

IFFI के दौरान प्रदर्शन के लिए कुल 20 गैर-फीचर फिल्मों का चयन किया गया है।

भारतीय पैनोरमा 2021 में चयनित 20 गैर-फीचर फिल्मों की सूची इस प्रकार है :

क्र.सं. फिल्म      भाषा             निर्देशक

1. वीरांगना    असमिया     किशोर कलिता

2. नाद - द साउंड     बंगाली    अभिजीत ए. पॉल

3. सैनबारी टू संदेशखाली    बंगाली     संघमित्रा चौधरी

4. बादल सरकार एंड द ऑल्टरनेटिव थियेटर  अंग्रेजी   अशोक विश्वनाथन

5. वेद... द विजनरी      अंग्रेजी      राजीव प्रकाश

6. सरमाउंटिंग चैलेंजेज  अंग्रेजी     सतीश पांडे

7. सुनपत     गढ़वाली      राहुल रावत

8. द स्पेल ऑफ पर्पल        गुजराती     प्राची बजनिया

9. भारत, प्रकृति का बालक    हिंदी    डॉ. दीपिका कोठारी और रामजी ओम

10. तीन अध्याय   हिंदी    सुभाष साहू

11. बबलू बेबीलोन से     हिंदी     अभिजीत सारथी

12. द नॉकर    हिंदी       अनंत नारायण महादेवन

13. गंगा-पुत्र      हिंदी     जय प्रकाश

14. गजरा       हिंदी        विनीत शर्मा

15. जुगलबंदी      हिंदी     चेतन भाकुनि

16. पबुंग स्याम    मणिपुरी        हाओबम पबन कुमार

17. मरमर्स ऑफ द जंगल      मराठी      सोहिल वैद्य

18. बैकस्टेज       उड़िया       लिपका सिंह दराई

19. विच          संथाली       जैकी आर बाला

20. स्वीट बिरयानी      तमिल      जयचंद्र हाशमी

• अन्तर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता के लिए 15 फिल्मों की सूची बनाई गई

अन्तर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में भारतीय प्रविष्टियों के रूप में गोदावरी, मी वसंतराव और सेमखोर शामिल हैं।

इस खंड में प्रतिस्पर्धा करने के लिए विश्व भर से फीचर श्रेणी की सर्वश्रेष्ठ फिक्शन फिल्मों का चयन किया जाता है। यह फिल्मोत्सव के सबसे महत्वपूर्ण वर्गों में से एक है जिसमें वर्ष की कुछ सर्वश्रेष्ठ फिल्में शामिल हैं और इन 15 फिल्मों के बीच सर्वश्रेष्ठ फिल्म (गोल्डन पीकॉक), सर्वश्रेष्ठ निर्देशक/अभिनेता/विशेष जूरी (सिल्वर पीकॉक) जैसे पुरस्कारों के लिए कोम्पिटिशन होता है।

1. एनी डे नाओ, निदेशक : हमी रमजान (फिनलैंड)

2. शेर्लोट, निदेशक : साइमन फ्रेंको (पैराग्‍वे)

3. गोदावरी, निदेशक : निखिल महाजन (मराठी भाषा में), भारत

4. एंट्रेगलडे, निदेशक : राडू मुंटियन (रोमानिया)

5. लैंड ऑफ ड्रीम्स, निदेशक : शिरीन नेशात और शोजा अज़ारी (न्यू मैक्सिको, यूएसए)

6. लीडर, निदेशक : कटिया प्रिविज़िएन्सव (पोलैंड)

7. मी वसंतराव, निदेशक : निपुण अविनाश धर्माधिकारी (मराठी भाषा में), भारत

8. मॉस्को डज़ नॉट हैपन, निदेशक : दिमित्री फेडोरोव (रूस)

9. नो ग्राउंड बिनीथ द फीट, निदेशक : मोहम्मद रब्बी मृधा (बांग्लादेश)

10. वंस वी वर गुड फॉर यू, निदेशक : ब्रैंको श्मिट (क्रोएशिया, बोस्निया और हर्जेगोविना)

11. रिंग वांडरिंग, निदेशक : मसाकाज़ु कानेको (जापान)

12. सेविंग वन हू वाज़ डैड, निदेशक : वाक्लाव कद्रंका (चेक गणराज्य)

13. सेमखोर, निदेशक: एमी बरुआ (दीमासा), भारत

14. द डोर्म, निदेशक : रोमन वास्यानोव (रूस)

15. द फर्स्ट फॉलन, निदेशक : रोड्रिगो डी ओलिवेरा (ब्राजील)

• International Film Festival of India (IFFI) 2021

Venue - Goa (India)

Starting - 20 November 2021

Close - 28 November 2021

अवार्ड (Award) -

1. गोल्डन पिकॉक अवार्ड 2021 (सर्वश्रेष्ठ फिल्म) -

इस पुरस्कार के अंतर्गत ₹40,00,000/- का नकद पुरस्कार और निर्देशक तथा निर्माता के मध्य समान रूप से वितरित किया जाता है। निर्देशक को नकद राशि के अलावा गोल्डन पीकॉक और एक प्रमाण पत्र प्राप्त होगा। निर्माता को नकद राशि के अलावा एक प्रमाण पत्र प्रदान किया जाएगा। विजेता - Comming Soon

2. सिल्वर पिकॉक अवार्ड 2021

सर्वश्रेष्ठ निर्देशक : सिल्वर पीकॉक, प्रमाण पत्र और 15,00,000/- रुपए का नकद पुरस्कार। विजेता - Comming Soon

सर्वश्रेष्ठ अभिनेता (पुरुष) : सिल्वर पीकॉक, प्रमाण पत्र और 10,00,000/- रुपये का नकद पुरस्कार। विजेता - Comming Soon

सर्वश्रेष्ठ अभिनेता(महिला) : सिल्वर पीकॉक, प्रमाण पत्र और 10,00,000/- रुपये का नकद पुरस्कार। विजेता - Comming Soon

स्पेशल जूरी अवार्ड फॉर लाइफ टाइम अचीवमेंट - इंडियन पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर 2021 - सिल्वर पीकॉक, प्रमाण पत्र और 15,00,000/- रुपये का नकद पुरस्कार एक फिल्म (फिल्म के किसी भी पहलू के लिए जिसे जूरी पुरस्कार/स्वीकृति देना चाहती है) या एक व्यक्ति (उसके एक फिल्म में कलात्मक योगदान के लिए) को दिया जाता है। पुरस्कार, यदि किसी फिल्म को दिया जाता है, तो फिल्म के निर्देशक को दिया जाएगा। विजेता - Comming Soon

सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड 2021 - विजेता - Comming Soon

इंडियन फिल्म पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर अवॉर्ड 2021 - सुश्री हेमा मालिनी (अभिनेत्री और उत्तर प्रदेश के मथुरा से सांसद) और श्री प्रसून जोशी (गीतकार और अध्यक्ष, सीबीएफसी) को।

Hosted - Government of Goa and Directorate of Film Festivals

• भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का उद्देश्य

महोत्सव का उद्देश्य दुनिया के फिल्म निर्माताओं को अपने प्रोजेक्ट के लिए एक साझा मंच प्रदान करना है। फिल्म कला में उत्कृष्टता की, फिल्म संस्कृतियों की समझ और प्रशंसा में योगदान करना। अपने सामाजिक और सांस्कृतिक लोकाचार के संदर्भ में विभिन्न राष्ट्र और दुनिया के लोगों के बीच सहयोग और दोस्ती को बढ़ावा देना है।

• इंडियन इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल (IFFI) की शुरुआत कब हुई थी

1952 में स्थापित भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI) एशिया के सबसे महत्वपूर्ण फिल्म समारोहों में से एक है। यह महोत्सव सालाना आयोजित किया जाता है।

वर्तमान में गोवा राज्य में (देश के पश्चिमी तट पर) आयोजित किया जाता है। महोत्सव का उद्देश्य दुनिया के सिनेमाघरों के लिए फिल्म कला की उत्कृष्टता को प्रदर्शित करने के लिए एक आम मंच प्रदान करना है।

विभिन्न राष्ट्रों की फिल्म संस्कृतियों को उनके सामाजिक और सांस्कृतिक लोकाचार के संदर्भ में समझने और उनकी सराहना करने में योगदान देना और दुनिया के लोगों के बीच दोस्ती और सहयोग को बढ़ावा देना।

यह महोत्सव फिल्म समारोह निदेशालय (सूचना और प्रसारण मंत्रालय के तहत) और गोवा राज्य सरकार द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित किया जाता है।

International Film Festival of India (IFFI)

Venue - Goa (India)

Established - 24 January 1952; 69 years ago

Award - Golden Peacock - Best Film 

Silver Peacock - Best Director, Best Actor (Male) Best Actor (Female)

Special Jury Award for Lifetime Achievement - Indian Personality of the Year

Hosted - Government of Goa and Directorate of Film Festivals

• इंडियन इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल (IFFI) के बारे में

IFFI के पहले संस्करण का आयोजन भारत सरकार के फिल्म प्रभाग द्वारा भारत के पहले प्रधानमंत्री के संरक्षण में किया गया था। 24 जनवरी से 1 फरवरी 1952 तक मुंबई में आयोजित इस महोत्सव को बाद में मद्रास, दिल्ली, कलकत्ता और त्रिवेंद्रम ले जाया गया। इसमें कुल मिलाकर लगभग 40 फीचर और 100 लघु फिल्में थीं। दिल्ली में IFFI का उद्घाटन 21 फरवरी 1952 को प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू द्वारा किया गया था।

पहला संस्करण गैर-प्रतिस्पर्धी था, जिसमें संयुक्त राज्य अमेरिका सहित 23 देशों ने 40 फीचर फिल्मों और लगभग 100 लघु फिल्मों ने भाग लिया था। यह एशिया में कहीं भी आयोजित होने वाला पहला अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव था।

1961 में आयोजित दूसरे भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म उत्सव का स्थान नई दिल्ली था, जो गैर-प्रतिस्पर्धी भी था। 

जनवरी 1965 में तीसरे संस्करण से भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव प्रतिस्पर्धी बन गया। तब से यह केरल की राजधानी त्रिवेंद्रम में स्थानांतरित हो गया है। इस संस्करण की अध्यक्षता सत्यजीत रे ने की थी।

1975 में गैर-प्रतिस्पर्धी और वैकल्पिक वर्षों में अन्य फिल्म-निर्माण शहरों में आयोजित होने वाला फिल्मोत्सव शुरू किया गया था। बाद में फिल्मोत्सव को IFFI में मिला दिया गया। 2004 में IFFI को त्रिवेंद्रम से गोवा ले जाया गया था। तब से IFFI एक वार्षिक आयोजन और प्रतिस्पर्धी रहा है।

भारत ने 1952 से 51 अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) की मेजबानी की है जो प्रतिस्पर्धी और गैर-प्रतिस्पर्धी दोनों तरह के है। यह उत्सव 1975 के बाद से एक वार्षिक कार्यक्रम बन गया।

भारत ने 1975 में अपने 5 वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में एक स्थायी प्रतीक चिन्ह 'वसुधैव कुटुम्बकम' (पूरी दुनिया एक परिवार है) महोत्सव के स्थायी आदर्श वाक्य के साथ अपनाया।

52nd international Film Festival of India 2021

भारत के राष्ट्रीय पक्षी मोर का इस महोत्सव के प्रतिक में प्रतिनिधित्व शामिल है। उसी वर्ष आईएफएफआई के साथ बारी-बारी से फिल्मोत्सव का एक गैर-प्रतिस्पर्धी उत्सव आयोजित करने का निर्णय लिया गया। जबकि फिल्मोत्सव भारत के प्रमुख फिल्म-निर्माण केंद्रों में आयोजित किए गए थे। IFFI केवल नई दिल्ली में आयोजित किया गया था।

• अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

Q. 01. IFFI किस वर्ष गोवा में शुरू हुआ?

Ans - 1952 में।

Q. 02. भारत का 51 वां अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव IFFI किस राज्य में आयोजित किया गया?

Ans - गोवा (भारत)

Q. 03. IFFI का पूरा नाम क्या है?

Ans - International Film Festival of India

Q. 04. अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में एक स्थायी प्रतीक चिन्ह क्या है?

Ans - वसुधैव कुटुम्बकम' (पूरी दुनिया एक परिवार है)। यह प्रतिक चिन्ह 1975 में 5 वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में अपनाया गया?

Q. 05. 52 वां भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI) कब और कहां आयोजित किया जाएगा?

Ans - 52 वां भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI) गोवा में 20-28 नवंबर 2021 के दौरान आयोजित किया जाएगा।

Q. 06. सिनेमा में उत्कृष्टता के लिए 'सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड’ को कौन-से वर्ष से प्रदान करना शुरू किया गया है?

Ans - 2021 में 52 वां भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI) से।

Also Read :

1. Fit India Freedom Run 2.0