निपुण भारत मिशन की क्रियान्वित के लिए राष्ट्रीय संचालन समिति (NSC) की स्थापना

• निपुण भारत मिशन के क्रियान्वयन के लिए नेशनल स्टियरिंग कमेटी (NSC) का गठन

 निपुण भारत मिशन के क्रियान्वित के लिए एक राष्ट्रीय संचालन समिति (National Steering Committee) का गठन 25 October 2021 को केंद्रीय शिक्षा मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान की अध्यक्षता और शिक्षा राज्यमंत्री श्रीमती अन्नपूर्णा देवी की सह-अध्यक्षता में किया गया है। इस योजना के कार्यान्वयन के लिए सभी राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में 5 स्तरीय तंत्र स्थापित किया जाएगा। यह 5 स्तरीय तंत्र राष्ट्रीय - राज्य - जिला - ब्लॉक - स्कूल स्तर पर संचालित किया जाएगा। 

राष्ट्रीय संचालन समिति (National Steering Committee) के अन्य सदस्य :

1. स्कूल शिक्षा और साक्षरता सचिव

2. NCERT के निदेशक

3. NIEPA के कुलपति

4. NCTE के अध्यक्ष

5. उत्तर प्रदेश के शिक्षा सचिव

6. कर्नाटक के शिक्षा सचिव

7. गुजरात SCERT के निदेशक

8. सिक्किम SCERT के निदेशक

9. 7 केंद्रीय मंत्रालयों अर्थात् महिला एवं बाल विकास, जनजातीय मामले, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, वित्त, इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी तथा पंचायती राज के प्रतिनिधि।

10. NCERT और क्षेत्रीय शिक्षा संस्थान (RIE) अजमेर के दो विशेषज्ञ और बाहर के तीन विशेषज्ञ।

11. संयुक्त सचिव और निपुण भारत मिशन के मिशन निदेशक नेशनल स्टियरिंग कमेटी के के संयोजक होंगे।

• निपुण भारत मिशन के लिए नेशनल स्टियरिंग कमेटी (NSC) की भूमिकाएं और जिम्मेदारियां

1. मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता पर राष्ट्रीय मिशन की प्रगति की निगरानी करना और नीतिगत मामलों पर मार्गदर्शन प्रदान करना।

2. 2026-27 में राष्ट्रीय लेवल पर हासिल किए जाने वाले लक्ष्य तक पहुंचने के लिए कार्य करना।

3. दिशा-निर्देशों के अनुरूप कार्यक्रम में वार्षिक प्रगति के मापन के लिए उपकरणों का प्रसार करना।

4. प्रत्येक राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए KRA के साथ एक राष्ट्रीय कार्य योजना (राज्य की कार्य योजनाओं के आधार पर) तैयार करना और अनुमोदन करना, अंतराल के लिए जिम्मेदार कारकों (अर्थात् फंड की कमी, रिक्तियों, शिक्षकों, जनसांख्यिकी, स्थानीय मुद्दों, शिक्षकों के लिए प्रशिक्षण आवश्यकता, पाठ्यचर्या और शिक्षाशास्त्र संबंधी कार्य) को देखना।

5. कार्यक्रम संबंधित और वित्तीय मानदंडों की समय-समय पर समीक्षा करना ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे हासिल किए जाने वाले लक्ष्यों के साथ सामंजस्य बिठा रहे हैं।

6. प्रगति का विश्लेषण करने और राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को फीडबैक प्रदान करने के लिए मूल्यांकन की पद्धति विकसित करना।

• क्या है निपुण भारत मिशन

स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग ने 5 July 2021 को बेहतर समझ और संख्यात्मक ज्ञान के साथ पढ़ाई में निपुणता के लिये राष्ट्रीय पहल - 'निपुण भारत मिशन' (National Initiative for Proficiency in Reading with Understanding and Numeracy- NIPUN) शुरू किया गया था।

निपुण भारत मिशन (Nipun Bharat Mission) का उद्देश्य कक्षा 3 तक प्रत्येक बच्चे के लिए मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता में सार्वभौमिक दक्षता के लक्ष्य को प्राप्त करना है। जैसा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 (NEP 2020) में परिकल्पित किया गया है।

• निपुण भारत मिशन के उद्देश्य निम्न है

1. खेल, खोज और गतिविधि आधारित शिक्षा शास्त्र।

2. बच्चों को प्रेरित, स्वतंत्र, समझ के साथ पढ़ने लिखने में संलग्न और पढ़ने लिखने के स्थाई कौशल वाला बनाना।

3. बच्चों को संख्या, माप और आकार के क्षेत्र को तर्क के साथ समझने और उन्हें गणना और समस्या के समाधान में स्वतंत्र बनाना।

4. बच्चों की परिचित/घर/मातृभाषा (भाषाओं) में शिक्षण सामग्री की उपलब्धता सुनिश्चित करना।

5. शिक्षकों, प्रधानाध्यापकों और शिक्षा प्रशासकों का दक्षता निर्माण।

6. आजीवन सीखने की एक मजबूत नींव बनाना।

7. पोर्टफोलियो, समूह और मिल-जुल कर किए कार्य, परियोजना कार्य, प्रश्नोत्तरी, रोल प्ले, खेल, मौखिक प्रस्तुतीकरण, छोटे टेस्ट आदि के माध्यम से सीखना।

8. सभी विद्यार्थियों के सीखने के स्तर की ट्रेकिंग सुनिश्चित करना।

Also Read :

1. राष्ट्रीय पाठ्यक्रम की रूपरेखा निर्माण हेतु राष्ट्रीय संचालन समिति का गठन