योग्यता आधारित शिक्षा (CBE) क्या है?

योग्यता-आधारित शिक्षा (Competency Based Education) शिक्षण, सीखने और मूल्यांकन के लिए एक दृष्टिकोण है जो छात्र के सीखने के परिणामों के प्रदर्शन और प्रत्येक विषय में विशेष दक्षताओं में दक्षता प्राप्त करने पर केंद्रित है। Competency Based Education पद्धति का उपयोग करने वाला शिक्षण छात्रों को सशक्त बनाने और उन्हें एक सार्थक और सकारात्मक सीखने का अनुभव प्रदान करने का काम करता है। यह शिक्षार्थी को केंद्र में रखता है और सक्रिय रूप से उन्हें सीखने की प्रक्रिया में संलग्न करता है। यह ज्ञान और कौशल के वास्तविक दुनिया के अनुप्रयोगों और सीखने के अनुभव की प्रामाणिकता पर जोर देता है।

योग्यता आधारित शिक्षा (Competency Based Education) छात्रों को अपनी क्षमता और गति के अनुसार कौशल विकसित करने के लिए आगे बढ़ने का अवसर प्रदान करता है। योग्यता वह क्षमता, कौशल, ज्ञान और दृष्टिकोण है जो व्यक्ति को वास्तविक जीवन में कार्य करने में सहायता करता है। योग्यता आधारित शिक्षा सीखने और निर्देशन का एक तरीका है , जो कि विभिन्न सामग्रियों और कौशलों के साथ समझ और योग्यता सुनिश्चित करने के लिए लक्षित होता है।

योग्यता-आधारित शिक्षा शिक्षार्थियों के समग्र विकास पर केंद्रित है। सीखने के इस दृष्टिकोण से शिक्षार्थी यह सीख सकते हैं कि ज्ञान और कौशल कैसे प्राप्त किया जाए और उन्हें वास्तविक जीवन (Real Life) की समस्याओं पर कैसे लागू करें। योग्यता आधारित शिक्षा शिक्षार्थियों को अधिक सीखने और कौशल निर्माण करने की इच्छा जागृत करने में भी मदद करता है।

योग्यता-आधारित शिक्षा, सीखने और निर्देशन का एक ऐसा तरीका है, जो कि विभिन्न सामग्रियों और कौशलों के साथ समझ और योग्यता सुनिश्चित करने के लिए लक्षित होता है, न कि समय के अनुसार निर्देशित उपलब्धि से। इसका तात्पर्य है कि इस प्रकार की शिक्षा में छात्रों को उन कौशलों के बारे में सूचित किया जाता है जिनसे उन्हें किसी इकाई के अंत तक होने की उम्मीद होती है, और फिर इकाई को इस तरह से निर्मित जाता है, जिससे यह सुनिश्चित हो सके कि उनके पास कौशल और दक्षताओं की आवश्यकता होगी।

• वर्तमान में योग्यता आधारित शिक्षा को कब और कहां लागू किया गया है

योग्यता-आधारित मूल्यांकन तंत्र माध्यमिक स्तर (कक्षा 6-10 तक) तक भारत की मौजूदा स्कूली शिक्षा व्यवस्था को मज़बूती प्रदान करेगा और मुख्य रूप से तीन विषयों अंग्रेज़ी (पठन), विज्ञान और गणित के संदर्भ में देशभर के विद्यार्थियों की सीखने की क्षमता और परिणामों में सुधार करेगा।

 यह तंत्र सीबीएसई योग्यता आधारित शिक्षा परियोजना का एक अंग है, जिसका उद्देश्य NEP 2020 में उल्लिखित रट्टंत पद्धति पर आधारित शिक्षा व्यवस्था को योग्यता आधारित मॉडल में परिवर्तित करना है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के तहत यह परिवर्तन आगामी 2-3 वर्षों में किया जाना है। मूल्यांकन के क्षेत्र में वैश्विक मानकों को प्राप्त करने के NEP 2020 के व्यापक दृष्टिकोण के साथ इस नए मूल्यांकन तंत्र को जोड़ा गया है।

राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 में सुझाए गए परिवर्तनों को लागू करने और शिक्षण गुणवत्ता में सुधार लाने के उद्देश्य से इस नए मूल्यांकन तंत्र को लाया गया है।

ब्रिटेन के नॉलेज पार्टिसिपेट के रूप में Alphaplus के साथ मिलकर ब्रिटिश काउंसिल ने भारतीय विद्यालयों में वर्तमान में चल रहे शिक्षण और मूल्यांकन मॉडल के व्यापक शोध और विश्लेषण के बाद इस नए मूल्यांकन तंत्र को डिजाइन और विकसित किया है।

योग्यता आधारित शिक्षा तंत्र का उद्देश्य बेहतर परिणामों के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर की और उच्च गुणवत्ता वाली शिक्षा को सक्षम बनाना है, और यह तंत्र स्कूल लेवल पर मूल्यांकन व्यवस्था में उच्च गुणवत्ता लाने में शिक्षकों की सहायता करेगा।

मूल्यांकन का यह नया तंत्र ब्रिटेन के विशेषज्ञों और भारतीय स्कूल क्षेत्र से संबद्ध हितधारकों के व्यापक सहयोग और परामर्श का परिणाम है। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) और ब्रिटिश काउंसिल ने सीबीएसई योग्यता आधारित शिक्षा परियोजना के हिस्से के रूप में विज्ञान, गणित और अंग्रेजी कक्षाओं के लिए सांकेतिक मूल्यांकन संरचना शुरू कर दी है। केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड सीबीएसई के स्कूलों में नवंबर 2021 में होने वाले आकलन (Assessment) में इस योग्यता आधारित शिक्षा व्यवस्था को लागू किया जाएगा।

• योग्यता आधारित शिक्षा (CBE) की मुख्य विशेषताएं

1. सभी छात्रों के लिए हिस्सेदारी

2. छात्रों की व्यक्तिगत सीखने की जरूरतों के आधार पर विभेदित समर्थन

3. कक्षा में समय के बजाय महारत के प्रमाण के आधार पर प्रगति

4. निर्देशों पर आधारित

5. रचनात्मक मूल्यांकन का उपयोग, विशेष रूप से सहकर्मी और स्व-मूल्यांकन, जहां छात्रों को अपने स्वयं के काम पर प्रतिबिंबित करने और सुधार के लिए क्षेत्रों की पहचान करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

6.अर्जित ज्ञान के व्यावहारिक अनुप्रयोग पर अधिक ध्यान केंद्रित।

7. योग्यता-आधारित शिक्षा (Competency Based Education) का मुख्य उद्देश्य विद्यार्थियों को प्रशिक्षण के अगले लेवल पर जाने से पहले कुछ विशिष्ट कौशल में महारत हासिल करना है।

8. छात्रों को अपनी गति को नियंत्रित करने में सक्षम बनाता है क्योंकि वे एक निर्धारित सीखने की प्रक्रिया तक सीमित नहीं हैं।

9. इस शिक्षा व्यवस्था में छात्र सिखने में अधिक व्यस्त रहते हैं।

10. योग्यता आधारित मूल्यांकन का उपयोग किसी ग्रेड या श्रेणी को निर्धारित करने या किसी पाठ्यक्रम को उत्तीर्ण करने और असफल होने का संकेत देने के लिए नहीं किया जाता है, बल्कि यह सुनिश्चित करने के लिए कि योग्यता आधारित शिक्षा सफल हो और सुनिश्चित करें कि क्या अधिक प्रशिक्षण आवश्यक है।

• योग्यता-आधारित शिक्षा (CBE) के क्या लाभ हैं?

CBE उच्च स्तरीय सोच कौशल, अंतःविषय दृष्टिकोण और समस्या-समाधान को एकीकृत करता है, क्योंकि ये आधुनिक दुनिया और कार्यस्थल के लिए आवश्यक हैं। सामाजिक और भावनात्मक कौशल विकास और विश्व स्तर पर साक्षरता और नागरिकता के विकास के साथ, यह दृष्टिकोण शिक्षार्थियों को न केवल राष्ट्रीय संदर्भ में बल्कि अंतर्राष्ट्रीय श्रम बाजार में भी सक्षम बनाता है।

1. विद्यार्थी केन्द्रित शिक्षण - पद्धति

2. विद्यार्थियों के लिए लचीली

3. योग्यता और दक्षता पर ध्यान

4. विद्यार्थियों के लिए सहयोगी

5. व्यक्तिगत अध्ययन - अध्यापन की व्यवस्था

6. समग्र और एकीकृत विकास पर केंद्रित

7. पारदर्शी ग्रेडिंग प्रणाली।

• योग्यता आधारित शिक्षा (CBE) पीपीटी पीडीएफ

Also Read :

1. विद्यालय आधारित आकलन (SBA) क्या है

2. कला समेकित शिक्षा (Art Integrated Learning) क्या है