संसदात्मक और अध्यक्षात्मक शासन व्यवस्थाओं के बीच निम्नलिखित में से कौन-सा अंतर सही नहीं है?

संसदात्मक और अध्यक्षात्मक शासन व्यवस्थाओं के बीच निम्नलिखित में से कौन-सा अंतर सही नहीं है?

संसदात्मक और अध्यक्षात्मक शासन व्यवस्थाओं के बीच निम्नलिखित में से कौन-सा अंतर सही नहीं है?

A
संसदात्मक व्यवस्थापिका में दो कार्यपालिका होती है - वास्तविक और नाममात्र, लेकिन अध्यक्षात्मक व्यवस्था में वास्तविक अध्यक्ष ही है।
B
संसदात्मक व्यवस्था में मंत्री संसद के प्रति उत्तरदायी होते हैं लेकिन अध्यक्षात्मक व्यवस्था में वास्तविक अध्यक्ष के प्रति
C
संसदात्मक व्यवस्था का कार्यकाल निश्चित होता है लेकिन अध्यक्षात्मक व्यवस्था में ऐसा नहीं है
D
संसदात्मक व्यवस्था सरकार के तीनों अंगों के घनिष्ठ संबंधों पर आधारित होती है लेकिन अध्यक्षात्मक व्यवस्था शक्ति के पृथक्करण पर आधारित होती है
Answer:

The Correct Option is C. संसदात्मक व्यवस्था का कार्यकाल निश्चित होता है लेकिन अध्यक्षात्मक व्यवस्था में ऐसा नहीं है

Details
अध्यक्षात्मक शासन प्रणाली में कार्यपालिका के प्रधान का निर्वाचन एक निश्चित समय के लिए किया जाता है और महाभियोग के अतिरिक्त अन्य किसी प्रकार से उसे उसके कार्यकाल के पूर्व उसके पद से नहीं हटाया जा सकता है। संसदात्मक शासन में कार्यपालिका अर्थात मंत्रीपरिषद का कार्यकाल निश्चित नहीं होता। कार्यपालिका उसी समय तक अपने पद पर बनी रह सकती है जब तक कि उसे व्यवस्थापिका का विश्वास प्राप्त होता है।
और अधिक पढ़ें : संसदीय शासन व्यवस्था
और अधिक पढ़ें : अध्यक्षात्मक शासन व्यवस्था

My name is Mahendra Kumar and I do teaching work. I am interested in studying and teaching competitive exams. My qualification is B.A., B.Ed., M.A. (Pol.Sc.), M.A. (Hindi).

Post a Comment