जॉन रॉल्स द्वारा प्रतिपादित न्याय के दो सिद्धांत क्या है?

जॉन रॉल्स द्वारा प्रतिपादित न्याय के दो सिद्धांत क्या है?

Answer :
जॉन रॉल्स के न्याय के दो सिद्धांत :
जॉन रॉल्स ने अपने सिद्धांत का प्रतिपादन ‘ए थियरी ऑफ जस्टिस’ (A Theory of Justice) में उदारवाद के आधार पर किया है।
जॉन रॉल्स ने उपयोगितावादियों का खंडन किया है और हेयक के उस विचार का खंडन किया है जो हेयक ने समकालीन उदारवादी चिंतक होने के बावजूद भी प्रगति बनाम न्याय (Progress vs Justice) के विवाद में न्याय की अवहेलना करके प्रगति का पक्ष लिया है।
(1) समान स्वतंत्रता का सिद्धांत (समानता सिद्धांत) : प्रत्येक व्यक्ति को सर्वाधिक बुनियादी स्वतंत्रता का समान अधिकार होना चाहिए और यही अधिकार अन्य व्यक्तियों को भी प्राप्त होना चाहिए।
(2) अंतर सिद्धांत : सामाजिक और आर्थिक संस्थानों की अंतर्निहित असमानताओं से जुड़ा हुआ है। जॉन रॉल्स द्वारा सामाजिक और आर्थिक न्याय की स्थापना के लिए प्रतिपादित अंतर सिद्धांत में दो सिद्धांत और जोड़ें है -
(१) भेदमूलक सिद्धांत : सामाजिक तथा आर्थिक असमानताओंं को इस प्रकार क्रमबद्ध किया जाना चाहिए कि उन दोनों से न्यूनतम सुविधा प्राप्त लोगों को सर्वाधिक लाभ मिले और अवसर की निष्पक्ष समानता के आधार पर सभी को प्राप्त पद और दर्जे प्रभावित हो।
(२) अवसर की उचित समानता : ये विषमताएं उन पदों और स्थितियों के साथ जुड़ी हुई हों जो अवसर की उचित समानता की शर्तों पर सबके लिए सुलभ हो।
और अधिक पढ़ें : न्याय के सिद्धांत

My name is Mahendra Kumar and I do teaching work. I am interested in studying and teaching competitive exams. My qualification is B.A., B.Ed., M.A. (Pol.Sc.), M.A. (Hindi).

Post a Comment